दशहरे की छुट्टी के बाद सुप्रीम कोर्ट में फिजिकल सुनवाई की उम्मीद: सीजेआई एनवी रमन्ना

नई दिल्ली: शीर्ष अदालत के न्यायाधीशों को सम्मानित करने के लिए सुप्रीम कोर्ट की महिला वकीलों द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में भारत के मुख्य न्यायाधीश (CJI) एनवी रमना ने रविवार को दशहरे की छुट्टियों के बाद सुप्रीम कोर्ट में पुरी तरह से फिजिकल सुनवाई शुरू करने की उम्मीद जताई है। मुख्य न्यायाधीश ने कहा कि कई वकील शारीरिक सुनवाई को प्राथमिकता नहीं दे रहे हैं और वरिष्ठ वकीलों को कुछ समस्याएं हैं, युवा वकील आ रहे हैं। उम्मीद है कि दशहरा की छुट्टी के बाद हमारी शारीरिक सुनवाई होगी। जजों को फिजिकल कोर्ट से कोई दिक्कत नहीं है’। 

न्यायपालिका में महिलाओं का 50 प्रतिशत प्रतिनिधित्व अधिकार

बता दें 11 से 16 अक्टूबर तक सुप्रीम कोर्ट दशहरा की छुट्टी पर होगा। CJI ने न्यायपालिका में महिलाओं के कम प्रतिनिधित्व के मुद्दे पर भी बात की। उन्होंने कहा कि न्यायपालिका में महिलाओं का 50 प्रतिशत प्रतिनिधित्व अधिकार का मामला है। उन्होंने कहा, “आप सभी की मदद से हम शीर्ष अदालत और अन्य अदालतों में इस लक्ष्य तक पहुंच सकते हैं। मुझे नहीं पता कि मैं यहां रहूंगा या कहीं और लेकिन उस दिन मुझे निश्चित रूप से खुशी होगी’।

आगे सीजेआई ने कहा, “मैंने बार काउंसिल ऑफ इंडिया के अध्यक्ष से पूछा कि बार एसोसिएशन में कोई महिला क्यों नहीं है और मैंने इस बात पर जोर दिया कि उपचार की तत्काल आवश्यकता है। शौचालय, क्रेच, बैठने की जगह, काम के माहौल आदि की कमी ऐसे मुद्दे हैं जो महिलाओं को परेशान करते हैं’। 

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published.