सारे दावों की खुली पोल, बारिश पड़ने से Bangalore Mysore Expressway पर भरा पानी

Share

बेंगलुरु-मैसूर एक्सप्रेस वे का उद्घाटन हुए एक हफ्ता भी नहीं हुआ कि सारे दावों की पोल खुल गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार 12 मार्च को बेंगलुरु-मैसूर एक्सप्रेस वे का उद्घाटन किया था। लोकार्पण से पहले कहा जा रहा था कि बेंगलुरु-मैसूर एक्सप्रेस वे यातायात के लिए मजबूती की मिसाल बनेगा लेकिन जरा सी बारिश ने सारे दावों की हवा निकाल दी। कर्नाटक में बारिश की वजह से बेंगलुरु-मैसूर एक्सप्रेस के अंडरब्रिज में पानी भर गया है। पानी भरने से वाहनों का आवागमन प्रभावित हो रहा है। 6 दिन पहले ही पीएम मोदी ने इसका उद्घाटन किया है। इस एक्सप्रेस का निर्माण 8480 की लागत से हुआ है।

यात्री हुए नाराज

कर्नाटक में हुई बारिश की वजह से बेंगलुरु-मैसूर एक्सप्रेस वे पर भरे पानी की वजह से लोगों को परेशानी सामना करना पड़ रहा है। किसी की दो पहिया बाईक पानी में डूब गई तो किसी की चार पहिया गाड़ी आधी डूब कर खराब हो गई। वाहनों में नुकसान होने पर कुछ व्यथित यात्रियों ने मुख्यमंत्री बीएस बोम्मई और प्रधानमंत्री से नाराजगी जताते हुए सवाल किया कि क्या एक्सप्रेसवे उद्घाटन के लिए तैयार था? इस जलभराव से लोगों का काफी नुकसान हुआ है। एक स्थानिय ने कहा कि अगर पीएम के आने की खबर राज्य सरकार को होती तो वे 10 मिनट में इस जलभराव को साफ कर देते। क्या आप नहीं देख सकते कि हम आम आदमी पीड़ित हैं? इसके लिए कौन जिम्मेदार है?

12 मार्च को किया था उद्घाटन

पीएम मोदी ने रविवार को बेंगलुरु-मैसूर एक्सप्रेस वे का उद्घाटन किया था। इस दौरान केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी भी मौजूद रहे। यह एक्सप्रेस वे करीब 120 किलोमीटर लंबा है। इसके अलावा, एक्सप्रेस वे को 6-लेन कैरिज वे मिलता है और दोनों तरफ 2-लेन सर्विस रोड हैं। इसे बनाने में लगभग 8480 की लागत आई है। लेकिन बारिश पड़ने से एक्सप्रेस वे पानी भरने पर अब लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है।

ये भी पढ़ें: PM Modi की सुरक्षा चूक के मामले में 9 अफसरों पर गिरी गाज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *