Advertisement

क्या है जेमिनी AI, जिसे लेकर विवाद में फंसी Google, CEO सुंदर पिचाई ने मांगी माफी

Sundar Pichai What is Gemini AI, Google embroiled in controversy, CEO Sundar Pichai apologized

Sundar Pichai What is Gemini AI, Google embroiled in controversy, CEO Sundar Pichai apologized

Share

Sundar Pichai :

Advertisement

गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को लेकर तरह-तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। जेमिनी एआई की असफलता के बाद यह कहा जा रहा है कि वे यह तो अपने पद से खुद इस्तीफा दे देंगे या फिर (Sundar Pichai) कंपनी उन्हें निकाल देगी। इस बीच सुंदर पिचाई ने एआई चैटबॉट जेमिनी को लेकर हुए विवाद पर एक पत्र जारी किया है।

Advertisement

You May Also Like

सुंदर पिचाई ने Semafor को लिखे पत्र में कहा कि मैं जेमिनी एआई (Sundar Pichai) में हुई गलती के लिए माफी मांगता हूं। उन्होंने कहा कि मैं जेमिनी एआई को लेकर बात करना चाहता हूं। कुछ गलत इमेज और टेक्सट रिस्पॉन्सेज से यूजर्स नाराज हैं। इसका रिस्पॉन्स एकतरफा रहा, जिसे कंपनी गलत मान रही है। जो हुआ वो गलत था, इसलिए हमारी टीम इस एप में सुधार करने के लिए लगातार कार्य कर रही है।

ChatGPT के मुकाबले में गूगल ने लॉन्च किया था जेमिनी एआई

विश्वभर में इस वक्त आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस यानी एआई टेक्नोलॉजी की डिमांड बढ़ गई है। इसी क्रम में यूएस कंपनी OpenAI ने चैटजीपीटी (ChatGPT) लॉन्च किया। चैटजीपीटी आते ही गूगल की भी टेंशन बढ़ गई। इस पर गूगल ने आनन-फानन में चैटजीपीटी के मुकाबले में चैटबॉट सर्विस बार्ड (Bard) को लॉन्च कर दिया।

क्या है पूरा मामला

साल 2023 के फरवरी महीने में गूगल ने चैट बॉट बार्ड लॉन्च किया था। कुछ ही महीनों के बाद इसे रीब्रांड किया गया, जिसका नाम जेमिनी एआई रखा गया। इसे लेकर सीईओ सुंदर पिचाई ने कहा था कि मानवों की तरह व्यवहार करने के लिए एआई टूल को डिजाइन किया गया। यह सर्विस में 230 से ज्यादा देशों की 40 से ज्यादा भाषाएं शामिल हैं, लेकिन लॉन्चिंग के साथ ही जेमिनी एआई विवादों में घिर गया।

यह भी पढ़ें-CM बनते ही मरियम नवाज के बदले तेवर, अपनी ही पार्टी की महिला विधायक को दिया धक्का!

विवाद बढ़ता देख गूगल ने अस्थायी रूप से किया बंद

23 फरवरी को गूगल ने एआई इमेज जनरेटर के गलत रोलआउट को लेकर माफी मांगी। पिछले दिनों जेमिनी एआई ने कुछ ऐतिहासिक तस्वीरों को गलत तरीके से डिजाइन किया था। साथ ही इस एप में पोप को महिला और अश्वेत लोगों पर गलत टिप्पणी की गई थी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को फासीवादी बताया था। इसके बाद कंपनी ने माना कि उनका जेमिनी एआई ठीक से कार्य नहीं कर रहा है। विवाद बढ़ता देख गूगल ने इसे अस्थायी रूप से बंद करने का फैसला लिया।

Hindi khabar App- देश, राजनीति, टेक, बॉलीवुड, राष्ट्र, बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल, ऑटो से जुड़ी ख़बरों को मोबाइल पर पढ़ने के लिए हमारे ऐप को प्ले स्टोर से डाउनलोड कीजिए l हिन्दी ख़बर ऐप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अन्य खबरें