Advertisement

मध्य प्रदेश: काला हिरण मामले में सीएम शिवराज ने बुलाई उच्चस्तरीय बैठक, 3 पुलिसकर्मी शहीद

Share

मुठभेड़ में सब इंस्पेक्टर राजकुमार जाटव, आरक्षक नीरज भार्गव और आरक्षक संतराम ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। शिकारियों के पास से पांच हिरण और एक मोर के अवशेष जब्त किए हैं।

मध्य प्रदेश
Share
Advertisement

मध्य प्रदेश, गुना के आरोन थाना क्षेत्र के जंगल में शिकारियों ने पुलिसकर्मियों पर हमला किया। शिकारियों ने 3 पुलिसकर्मियों आरोन थाने के एसआई, हेड कांस्टेबल व आरक्षक की गोली मारकर हत्या कर दी। काले हिरण मारकर लेजा रहे बदमाशों ने 3 पुलिसवालों की हत्या कर दी है। पुलिस टीम का ड्राइवर गंभीर रूप से घायल हो गया है।

Advertisement

घटना शनिवार सुबह करीब 4 बजे की है। तीनों पुलिसकर्मियों के शव जिला अस्पताल भेज दिए गए हैं। घटना पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने दुख जताया है। मध्य प्रदेश के गृह मंत्री ने कहा है कि इस घटना के दोषियों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

7 शिकारियों ने दिया वारदात को अंजाम

पुलिस अधीक्षक जानकारी मिलने पर मौके पर पहुंचे, उन्होंने बताया कि इस वारदात में करीब सात आरोपी शामिल हैं, जिन्होंने 5 काले हिरण और एक मोर का शिकार किया था, पुलिसवालों का पोस्टमार्टम किया गया है, इसके साथ ही मोर और हिरण के शवों को भी पीएम के लिए भेज दिया गया है, इस मामले में पूर्व सीएम दिग्विजयसिंह ने ट्वीट कर आरोपियों के खिलाफ कठोर कार्रवाई की मांग की है।

पुलिस ने बताया कि सगा बरखेड़ा की तरफ से बदमाशों के जाने की सूचना मिली थी। इनकी घेराबंदी के लिए 3-4 पुलिस टीम लगाई गई थीं। शहरोक के जंगल में 4-5 बाइक से बदमाश जाते हुए दिखे। पुलिस ने घेराबंदी की तो उन्होंने फायरिंग शुरू कर दी। पुलिस ने भी जवाबी फायरिंग की। मुठभेड़ में सब इंस्पेक्टर राजकुमार जाटव, आरक्षक नीरज भार्गव और आरक्षक संतराम ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। शिकारियों के पास से पांच हिरण और एक मोर के अवशेष जब्त किए हैं।

वहीं इस मामले में सीएम शिवराजसिंह चौहान ने उच्चस्तरीय बैठक बुलाई है, वहीं गृहमंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने एसपी और डीजीपी से जानकारी ली है, उन्होंने अपराधियों के खिलाफ ऐसी कार्रवाई के निर्देश दिए हैं, जो नजीर बनें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *