Advertisement

खुलासा: मुर्तजा ने विदेशी सिम से बनाए अकाउंट, पुलिसकर्मियों की राइफल छीन बड़े हमले की थी योजना

Share

आरोपी अहमद मुर्तजा अब्बासी (Ahmed Murtaza Abbasi) से पूछताछ में यूपी एटीएस (UP ATS) ने बड़ा खुलासा किया है। यूपी एटीएस ने बताया है कि मुर्तजा आतंकी संगठन ISIS के एक्टिविस्ट से संपर्क में था।

Ahmed Murtaza Abbasi
Share
Advertisement

Gorakhnath Temple Attack: गोरखनाथ मंदिर में सुरक्षा कर्मचारियों पर हमले (Gorakhnath temple attack case ) का मुख्य आरोपी अहमद मुर्तजा अब्बासी (Ahmed Murtaza Abbasi) से पूछताछ में यूपी एटीएस (UP ATS) ने बड़ा खुलासा किया है। यूपी एटीएस ने बताया है कि मुर्तजा आतंकी संगठन ISIS के एक्टिविस्ट से संपर्क में था। साथ ही ISIS की शपथ लेने और ISIS के समर्थकों को आर्थिक सहायता किए करने का खुलासा हुआ है।

Advertisement

बैंक खातों का लेनदेन और ऑनलाइन वॉलेट की जांच

एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार (ADG Law and Order Prashant Kumar) बोले श्री गोरखनाथ मंदिर (Gorakhnath Temple) की सुरक्षा में तैनात पुलिसकर्मियों पर हमले के अभियुक्त मुर्तजा अब्बासी से UP ATS ने पूछताछ की। मुर्तजा अब्बासी की विभिन्न सोशल मीडिया, बैंक खातों का लेनदेन और ऑनलाइन वॉलेट की जांच की।

अभियुक्त मुर्तजा से यूपी एटीएस की पूछताछ में बड़ा खुलासा

यूपी एटीएस ने अभियुक्त से मिले इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस का डाटा एनालिसिस किया। UP ATS की जांच में अभियुक्त मुर्तजा (Ahmed Murtaza Abbasi) के जीमेल, ट्विटर, फेसबुक, टेलीग्राम एकाउंट्स का भी एनालिसिस किया गया। मुर्तजा के विभिन्न बैंक खातों, ईवालेट के वित्तीय लेनदेन का विश्लेषण किया गया। यूपी एटीएस को कई अहम सुबूत मिले है। 2014 में बेंगलुरु पुलिस की ओर से गिरफ्तार ISIS एक्टिविस्ट मसरूर बिश्वास के संपर्क में था। अभियुक्त आतंकी संगठनों और ISIS की आतंकी विचारधारा को बढ़ाने वाले विचारों से प्रेरित था।

ISIS के एक्टिविस्ट से संपर्क का खुलासा

अभियुक्त ने सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर आतंकवादी प्रोपेगेंडा एक्टिविस्ट के समक्ष 2013 में अंसार उल तौहीद की शपथ ली थी। जिसका वर्ष 2014 में आईएसआईएस में विलय हो गया। अभियुक्त की ओर से 2020 में आईएसआईएस संगठन की दोबारा शपथ ली गई। आरोपी मुर्तजा (Ahmed Murtaza Abbasi) ने अपने बैंक खातों के माध्यम से साढ़े 8 लाख यूरोप तथा अमेरिका के अलग-अलग देशों में आईएसआईएस संगठनों के समर्थकों के माध्यम से सहयोग देने के लिए भेजे थे। मुर्तजा आतंकी घटना करने के उद्देश्य से विभिन्न शास्त्रों जैसे एके-47, करबाइन, मिसाइल टेक्नोलॉजी आदि के संबंध में लगातार पढ रहा था।  

ISIS की शपथ लेने व ISIS के समर्थकों को आर्थिक सहायता किए करने का खुलासा

आरोपी मुर्तजा की ओर से एयर राइफल की प्रैक्टिस भी की थी। एयर राइफल की प्रैक्टिस के पीछे वजह असली औजार मिलने पर चला सके यह वजह थी। अभियुक्त की ओर से आईएसआईएस विचारधारा से प्रेरित होकर लोन वुल्फ अटैक्स रैली में गोरक्षनाथ मंदिर के दक्षिणी गेट की सुरक्षा पर तैनात कर्मियों पर जानलेवा हमला किया। मंदिर की सुरक्षा में तैनात सुरक्षाकर्मियों की राइफल छीनने का प्रयास किया गया। मुर्तजा की मूल योजना सुरक्षा में तैनात कर्मियों पर बांके से हमला कर उनकी हथियार छीन कर बड़ी घटना करने की थी।

सुरक्षा कर्मियों का हथियार छीनकर बड़ी घटना को अंजाम देने की थी साजिश

एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने कहा कि इसने इंटरनेट के माथ्यम से AK-47, M4 कार्बाइन, मिसाइल टेक्नोलॉजी के बारे में देखा और पढ़ा गया और इसी से इसने एयर पिस्तौल चलाना सीखा। इसकी सुरक्षा में तैनात सुरक्षा कर्मियों का हथियार छीनकर बड़ी घटना को अंजाम देने की साजिश थी। आतंकी संगठनों के कट्टरपंथी प्रचारकों और आतंकवाद को बढ़ावा देने वालों से प्रभावित था। मुर्तजा ने करीब साढ़े आठ लाख भारतीय रुपए यूरोप और अमेरिका में ISIS संगठन के समर्थकों के माध्यम से आतंकवादी गतिविधियों के लिए भेजे थे।

Read Also:- Gorakhpur मंदिर हमले में बड़ा खुलासा, आरोपी मुतर्जा के ISIS से निकला कनेक्शन, पूछताछ तेज

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अन्य खबरें