Advertisement

Cow Lumpy Disease : लम्पी बीमारी से हज़ारों गायों की दर्दनाक मौत, फोटो वायरल पर प्रशासन का इंकार

Share

10 अगस्त को केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने पशुओं को लाम्पी वायरस से बचाने के लिए लम्पी-प्रोवैक नामक एक टीका लॉन्च किया।

Share
Advertisement

Cow Lumpy Disease : गुजरात राज्य के 33 में से 20 जिलों में इस बीमारी के फैलने के बाद राजस्थान में गोजातीय त्वचा रोग (एलएसडी) यानी Lumpy Disease का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, राजस्थान के नौ जिलों में एलएसडी से 3,000 से अधिक मवेशियों की मौत हो चुकी है और 50,000 से अधिक संक्रमित हैं। इस बीमारी के फैलने से डेयरी क्षेत्र पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है।

Advertisement

लेकिन जिला प्रशासन ने इससे इनकार किया है।तस्वीरों को विभिन्न समाचार आउटलेट्स द्वारा प्रसारित किया गया है, जो दावा करते हैं कि बीकानेर में हर दिन बीमारी के कारण 250 से अधिक गायों की मौत हो रही है। लेकिन जिला प्रशासन ने इन खबरों को ‘भ्रामक’ बताया है। ढेलेदार वायरस एक त्वचा रोग का कारण बनता है जो मवेशियों को प्रभावित करता है। यह कुछ मक्खियों और मच्छरों, या टिक्कों द्वारा संचरित होता है।

जिला कलेक्टर भगवती प्रसाद कलाल ने कहा कि जिस जमीन पर फोटो खींची गई है वह गिद्धों के लिए संरक्षित क्षेत्र है। कलाल ने कहा, ” लाम्पी वायरस के कारण मरने वाले जानवरों को यहां नहीं लाया जाता है। हमने ऐसे शवों के लिए अलग-अलग क्षेत्र निर्धारित किए हैं। वे जानवर जमीन के नीचे दबे हुए हैं।”

5 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में बदबू का असर पड़ा है। राजस्थान सरकार द्वारा जारी आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, पूरे राज्य में ढेलेदार त्वचा रोग से 10,04,943 जानवर प्रभावित हुए हैं। इनमें से 84,369 बीकानेर में हैं। राज्य सरकार ने आगे कहा कि इस बीमारी ने शहर में 2,573 मवेशियों की जान ले ली।

राजस्थान में ढेलेदार त्वचा रोग फैलने के कारण पड़ोसी राज्य मध्य प्रदेश ने राजस्थान से पशुओं के आयात पर प्रतिबंध लगा दिया है। मध्य प्रदेश के इंदौर जिले के देपालपुर गांव में दो गायों के लम्पी वायरस से संक्रमित पाए जाने के बाद यह फैसला लिया गया है।

10 अगस्त को केंद्रीय कृषि और किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने पशुओं को लाम्पी वायरस से बचाने के लिए लम्पी-प्रोवैक नामक एक टीका लॉन्च किया।

वैक्सीन को राष्ट्रीय घोड़े अनुसंधान केंद्र, हिसार (हरियाणा) द्वारा भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान, इज्जतनगर (बरेली) के सहयोग से विकसित किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अन्य खबरें