त्योहारों को लेकर CM योगी के सख्त निर्देश, पुलिस-प्रशासन को रहना होगा अतिरिक्त संवेदनशील

CM Yogi बोले कल 3 मई को ईद (Eid), परशुराम जयंती (Parshuram Jayanti) और अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) का पावन पर्व है। वर्तमान परिवेश को देखते हुए पुलिस/प्रशासन को अतिरिक्त संवेदनशील रहना होगा।

Share This News
Eid

लखनऊ: उत्तर प्रदेश (Uttar Pardesh) के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (Yogi Aadityanath) ने उच्च स्तरीय टीम-9 (Team Nine) को दिशा-निर्देश देते हुए कहा कि यूपी (UP) में अब तक कोविड टीके (Covid Doze) की 31 करोड़ 50 लाख डोज लगाई जा चुकी है। जबकि 11 करोड़ 15 लाख से अधिक कोविड टेस्ट भी किए जा चुके हैं। 18+ आयु की पूरी आबादी को टीके की कम से कम एक डोज लग चुकी है, जबकि 88.72% वयस्क लोगों को दोनों खुराक मिल चुकी है। 15 से 17 आयु वर्ग में 95.3% से अधिक किशोरों को पहली खुराक मिल चुकी है और 67% से किशोरों को दोनों डोज लग चुकी है।

11 करोड़ 15 लाख से अधिक हुए कोविड टेस्ट

CM बोले ट्रैक, टेस्ट, ट्रीट और टीकाकरण की नीति के सफल क्रियान्वयन से उत्तर प्रदेश में कोविड पर प्रभावी नियंत्रण बना हुआ है। वर्तमान में प्रदेश में कुल 1621 एक्टिव केस हैं। इसमें 1556 लोग घर पर ही स्वास्थ्य लाभ प्राप्त कर रहे हैं। इनके स्वास्थ्य पर सतत नजर रखी जाए। गांवों में स्वास्थ्य सुविधाओं/सेवाओं की सहज उपलब्धता के लिए ‘मुख्यमंत्री अयोग्य मेले’ सार्थक सिद्ध हो रहे हैं। विगत रविवार को लगभग 1.63 लाख लोगों ने आरोग्य मेले का लाभ उठाया। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर आयोजित होने वाले आरोग्य मेलों से अधिकाधिक लोगों को लाभान्वित कराया जाए।

त्योहारों पर पुलिस-प्रशासन को रहना होगा अतिरिक्त संवेदनशील

आगे उन्होनें कहा कि सभी अस्पतालों तथा मेडिकल कॉलेजों में अग्निशमन व्यवस्थाओं का निरीक्षण करें, जिससे अग्नि की घटनाओं से कोई क्षति न होने पाए। पूरे प्रदेश में तत्काल अभियान चलाकर यह कार्य किया जाए। फसलों में आग लगने की दुःखद घटनाओं की भी जानकारी मिल रही है। इसके दृष्टिगत विशेष सावधानी बरतें। सभी फायर स्टेशन पूरी मुस्तैदी से कार्यरत रहें। कल 3 मई को ईद (Eid), परशुराम जयंती (Parshuram Jayanti) और अक्षय तृतीया (Akshaya Tritiya) का पावन पर्व है। वर्तमान परिवेश को देखते हुए पुलिस/प्रशासन को अतिरिक्त संवेदनशील रहना होगा।

सभी गो-आश्रय स्थलों में व्यवस्था रखी जाए सुचारु

सीएम योगी बोले हर एक पर्व शांति और सौहार्द के बीच सम्पन्न हों, इसके लिए स्थानीय जरूरतों के दृष्टिगत सभी जरूरी प्रयास किए जाएं। धार्मिक कार्यक्रम, पूजा-पाठ आदि निर्धारित स्थान पर ही हों। धर्मगुरुओं से संवाद बना कर यह सुनिश्चित करें कि सड़क मार्ग, यातायात बाधित कर कोई धार्मिक आयोजन न हो। सभी गो-आश्रय स्थलों में व्यवस्था सुचारु रखी जाए। हरा चारा-भूसा आदि के समुचित प्रबंध हों। इन दिनों गेहूं की कटाई चल रही है। ऐसे में पशु चारे के लिए भूसे की खरीद का यह सही समय है। गोवंश को गर्मी अथवा धूप से सुरक्षित रखने के प्रबंध किए जाएं। विकासखंड स्तर पर 2000-2500 गोवंश क्षमता वाले एक-एक मॉडल गो आश्रय स्थल स्थापित करने का प्रयास हो।

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published.