Punjab Government: शहीद किसानों के परिजनों से किया वादा भगवंत मान किया पूरा

पंजाब की भगवंत मान सरकार ने किसानों से किये हुए वादों पर बड़ा फैसला लिया है. भगवंत मान की सरकार ने किसान आंदोलन के दौरान शहीद किसानों को 5 लाख रुपए की आर्थिक मदद का वादा पूरा किया है.  किसान आंदोलन दौरान शहीद किसान परिवारों के लिए ये राशि जारी की गई है. कुछ दिन पूर्व पंजाब भवन में जब किसानों के साथ सरकार की बैठक हुई थी तब किसानों ने ये मांग रखी थी. इसपर सीएम मान भी तैयार हो गए थे और मुख्यमंत्री ने 3 दिनों में ही आर्थिक मदद की राशि जारी कर दी है. बता दें कि  अब तक 789 किसान परिवारों को मदद की राशि जारी की जा चुकी है. पंजाब सरकार 39.55 करोड़ की राशि जारी कर चुकी है.

बता दें कि पंजाब के सीएम भगवंत मान ने 3 अगस्त को किसान यूनियनों की अधिकांश मांगों को मान लिया था. जिसके बाद किसान नेताओं ने 3 अगस्त को अपना प्रस्तावित आंदोलन स्थगित कर दिया था. मीडिया से बातचीत करते हुए भगवंत मान ने कहा था कि मैं किसानों की भलाई के पूर्ण रूप से वचनबद्ध हूं और मेरे कार्यकाल के दौरान किसानों को अपनी जायज मांगों के लिए धरने-प्रदर्शन नहीं करने पड़ेंगे. उन्होंने कहा था कि किसान आंदोलन के दौरान शहीद हुए किसानों के आश्रितों को नौकरियां देने की प्रक्रिया पहले ही जारी है और शहीदी प्राप्त करने वाले किसानों के बाकी राहतें और मुआवजा परिजनों को जल्द ही मिल जाएगा।

पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान द्वारा गन्ना किसानों के लंबित भुगतानों को मंजूरी देने सहित उनकी अधिकांश मांगों को स्वीकार करने के बाद बीते मंगलवार को कई किसान संगठनों ने तीन अगस्त का अपना प्रस्तावित आंदोलन वापस लेने का फैसला किया था. सीएम मान ने बीते मंगलवार शाम यहां भारतीय किसान यूनियन (सिद्धूपुर) के अध्यक्ष जगजीत सिंह दल्लेवाल के नेतृत्व में किसान नेताओं के साथ चार घंटे लंबी बैठक की थी।

राज्य सरकार के गन्ना बकाया भुगतान सहित उनके विभिन्न मुद्दों का समाधान करने में नाकाम रहने की स्थिति में किसानों ने तीन अगस्त को माझा, मालवा और दोआबा क्षेत्रों में तीन जगहों पर राष्ट्रीय राजमार्ग को अवरुद्ध करने की घोषणा की थी. बैठक के बाद सीएम मान ने कहा था, ‘गन्ना बकाया 195.60 करोड़ रुपये है और इसमें से 100 करोड़ रुपये 15 अगस्त, जबकि शेष 95.60 करोड़ रुपये 7 सितंबर तक चुका दिए जाएंगे।

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published.