Advertisement

UP: बैंक खातों से रुपये निकालने वाले गिरोह का पर्दाफाश, दो साइबर ठगों को किया गया गिरफ्तार

Share
Advertisement

जनपदीय साइबर सैल व थाना पिलखुवा पुलिस ने बैंक अधिकारी व कर्मचारी बनकर भोले भाले लोगों को लोन दिलाने के नाम पर उनके महत्वपूर्ण दस्तावेज (आधार कार्ड, पैन कार्ड व कैंसिल चैक आदि) कोरियर से मंगवाकर उनमें एडिटिंग कर धोखाधडी से उनके बैंक खातों से रुपये निकालने वाले गिरोह का पर्दाफाश करते हुए दो साइबर ठगों को गिरफ्तार किया। जिनके कब्जे से 25 चैक, नकदी, डेबिट कार्ड आदि बरामद किए।

Advertisement

आपको बता दें जनपदीय साइबर सैल व थाना पिलखुवा पुलिस द्वारा थाने के दर्ज विशाल तोमर ठगी केस का खुलासा करते हुए बैंक कर्मचारी बनकर भोले-भाले लोगों को लोन दिलाने के नाम पर उनके आधार कार्ड, पैन कार्ड व कैसिल चैक आदि कोरियर से मंगवाकर धोखाधडी से उनके खाते से रुपये निकालने वाले गिरोह का पर्दाफाश करते हुए दो साइबर ठग दिल्ली निवासी मनोज व नील को गिरफ्तार किया गया है, जिनके कब्जे से 25 चैक, नकदी, 5 डेबिट कार्ड, घटना में प्रयुक्त 5 मोबाइल, आई-20 कार बरामद हुई है।

एसपी अभिषेक वर्मा ने बताया कि गिरफ्तार अभियुक्तगण लोगों को कॉल कर अपने आप को बैंक अधिकारी/कर्मचारी बताते हुए उन्हे अपनी बातों में फंसाकर कम ब्याज दर पर लोन दिलाने का लालच देकर उनके आधार कार्ड, पैन कार्ड व कैंसिल चैक आदि कोरियर से मंगवाते थे और फिर Paint Removal Liquid व रुई के माध्यम से चैक पर लिखे CANCEL को मिटाकर उस चैक पर अपना खाता संख्या व धनराशि भरकर बोरजो कोरियर कम्पनी के माध्यम से चैक को बैंक में जमा कराकर चैक की धनराशि को फर्जी खाते में ट्रांसफर करा लेते थे। उन्होंने कहा कि गिरफ्तार ठगों ने थाना धौलाना क्षेत्र में एक वर्ष पूर्व इसी प्रकार की करीब एक लाख रुपये से अधिक की ठगी की गयी थी।

पिछले करीब एक वर्ष से इस प्रकार के अपराध में संलिप्त थे। जिनके द्वारा एनसीआर क्षेत्र के जनपदों व अन्य राज्यों में इस तरह की घटनाओं अंजाम देकर लगभग 17 लाख रुपये का ठगी की जा चुकी है। गिरफ्तार में ठगों ने बताया कि हम लोग जरुरतमंद लोगों को पर्सनल लोन दिलाने के नाम पर कॉल करके विश्वास में लेने के लिये KOTAK MAHINDRA BANK का अधिकारी/कर्मचारी बनकर फर्जी पहचान पत्र (जिस पर सुधीर नाम लिखा हुआ है) व्हॉटसएप पर भेजकर भोले- भाले लोगों का आधार कार्ड, पैन कार्ड, बैंक का स्टेटमेंट व केंसिल चैक को कोरियर कम्पनी बोरजो के माध्यम से मंगवाकर चैक पर लिखे CANCEL को Paint Removal Liquid को एक कॉटन पर लगाकर धीरे- धीरे चैक पर लिखे CANCEL पर रगडकर मिटाते थे तथा उसमें मार्कर पैन से धनराशि व नाम भरकर बैंक में बोरजो कोरियर कम्पनी के माध्यम से चैक भेज देते थे। हम लोग स्वयं किसी व्यक्ति के पास जाकर चैक आदि प्राप्त नहीं करते थे और न ही बँक में पैक लगाने स्वयं जाते थे। इसी प्रकार हम लोगों ने थाना पिलखुवा क्षेत्र निवासी विशाल तोमर के साथ 53,000/- रुपये की ठगी की थी।

(दीपक से कश्यप की रिपोर्ट)

ये भी पढ़ें: अगस्त में ₹47 लाख करोड़ पर पहुंचा म्यूचुअल-फंड्स का एयूएम, स्मॉलकैप फंड में 61% बढ़ा निवेश

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *