Advertisement

IIT कानपुर के शोध में भूजल स्तर को लेकर हुआ बड़ा खुलासा, धान की फसलों का है चौंकाने वाला दुष्प्रभाव

Share
Advertisement

कानपुर: IIT कानपुर के शोध में भूजल स्तर को लेकर बड़ा खुलासा हुआ है। दरअसल, IIT कानपुर के एक शोध में दावा किया गया है कि धान की फसलों ने भूजल पर दुष्प्रभाव डाला है। शोध के अनुसार, पिछले 50 सालों से भूजल स्तर लगातार गिरता जा रहा है।

Advertisement

आपको बता दें कि ये चौंकाने वाला खुलासा आईआईटी के सीनियर वैज्ञानिक प्रो. राजीव सिन्हा ने अपने शोध में किया है। इसके साथ ही ये रिपोर्ट दी है कि अगर जल्द भूजल प्रबंधन इसको लेकर कोई उचित रणनीति तैयार नहीं करता तो स्थिति बेकाबू हो सकती है। 

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय और केंद्रीय भूजल बोर्ड के निर्देशन में आईआईटी के वरिष्ठ वैज्ञानिक प्रो. राजीव सिन्हा व पीएचडी स्कॉलर्स डॉ. सुनील कुमार जोशी की देखरेख में टीम ने पंजाब व हरियाणा में भूजल स्तर पर अध्ययन किया है।

 प्रो. सिन्हा के मुताबिक, हरियाणा में धान की खेती का क्षेत्र वर्ष 1966-67 में 192,000 हेक्टेयर था, जो वर्ष 2017-18 में बढ़कर 1422,000 हेक्टेयर पहुंच गया। इसी तरह पंजाब में धान का क्षेत्र वर्ष 1966-67 में 227,000 हेक्टेयर था, जो वर्ष 2017-18 में बढ़कर 3064,000 हेक्टेयर पहुंच गया है। अब कृषि मांग को पूरा करने के लिए भूजल का तेजी से अवशोषण किया जा रहा है।

शोधकर्ताओं के अनुसार, भूजल स्तर में सबसे अधिक गिरावट कुरुक्षेत्र, पटियाला व फतेहाबाद जिले और पानीपत व करनाल में आई है। प्रो. सिन्हा की मानें तो यह हश्र सिर्फ पंजाब व हरियाणा में नहीं बल्कि उत्तर प्रदेश और बिहार के गंगा किनारे वाले जिलों का भी है। प्रो. सिन्हा ने सुझाव दिया कि भूजल के बजाए सिंचाई के अन्य साधनों का उपयोग बढ़ाया जाए। जैसे वर्षा का जल संचयन किया जाए, अगर ऐसा नहीं हुआ तो परिणाम अच्छे नहीं होंगे।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अन्य खबरें