Advertisement

Sandeshkhali: TMC पर जमकर भड़के सुधांशु त्रिवेदी, बोले- महिलाओं के करुण स्वरों से छलनी हो रहा बंगाल

sudhanshu trivedi slams tmc over sandeshkhli violence
Share
Advertisement

Sandeshkhali: भाजपा नेता सुधांशु त्रिवेदी ने संदेशखाली हिंसा पर तृणमूल कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा है। प. बंगाल में काफी समय से टीएमसी नेता शाहजहां शेख के खिलाफ गिरफ्तारी की मांग की जा रही है। भाजपा का प्रतिनिधिमंडल पीड़ित महिलाओं से मिलने की कोशिश कर रहा है। लेकिन पुलिस द्वारा उन्हें आगे नहीं जाने दिया जा रहा। अब इसपर सुधांशु त्रिवेदी ने टीएमसी पर जमकर निशाना साधा है।

Advertisement

Sandeshkhali: टीएमसी जनता को धमका रही है

सुधांशु त्रिवेदी ने कहा कि प. बंगला वो पावनभूमि है जहां से भारत के स्वतंत्रता संग्राम के और संघर्ष के स्वरों को सबसे पहला उदघोष मिला। वो भूमि है जहां वंदे मातरम और राष्ट्रगान लिखा गया। राष्ट्रवाद को आवाज देने वाली वो भूमि इस समय प्रताड़ित, दुखी और पूरी तरह से टूटी हुई महिलाओं के करूण आवाजों से छलनी हो रही है। उन्होंने टीएमसी पर निशाना साधते हुए कहा कि दुख की बात ये है कि वहां की सरकार इस विषय पर अत्यंत असंवेदनशील रवैया अपना रही है।

‘BJP महिला मोर्चा की अध्यक्ष को संदेशखाली जाने से रोका’

सुधांशु त्रिवेदी ने दावा किया कि आज भी भाजपा महिला मोर्चा की अध्यक्ष को वहां जाने से रोका गया। कल हमारे प्रदेश अध्यक्ष को बल पूर्वक वहां जाने से रोका गया और अब सरकार ने वहां धारा 144 लागू कर दी है। वहां की SIT महिलाओं को न्याय दिलाने की जगह उन पर दवाब डालने का प्रयास कर रही है ताकि वे इस विषय को आगे ना बढ़ाए। पत्रकारों को भी धमकाया जा रहा है।

‘शाहजहां शेख अभी तक गायब’

टीएमसी का नेता शाहजहां शेख अभी तक गायब है। इसे पूरे भारत में सेक्यूलर प्रोटेक्शन मिली है। ये उस मानसिकता को बढ़ावा देता है कि कोई महिलाओं को प्रताड़ित करे उसे हमेशा प्रोटेक्शन दी जाएगी। उन्होंने बताया कि ये घटना इसलिएइतनी संवेदनशील है क्योंकि महिलाओं के हक में बोलने वाले भी आज चुप हैं। सुधांशु त्रिवेदी ने संदेशखाली हिंसा को एक ऐसी घटना बताया जो पहले भी प. बंगाल में हो चुकी है।

ये भी पढ़ें- Sandeshkhali केस में शाहजहां शेख पर ED ने किया केस दर्ज

Hindi Khabar App: देश, राजनीति, टेक, बॉलीवुड, राष्ट्र,  बिज़नेस, ज्योतिष, धर्म-कर्म, खेल, ऑटो से जुड़ी ख़बरो को मोबाइल पर पढ़ने के लिए हमारे ऐप को प्ले स्टोर से डाउनलोड कीजिए. हिन्दी ख़बर ऐप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *