Advertisement

Gaganyaan Mission: 2025 मिशन के तैयार है अंतरिक्ष यात्री, इसरो चीफ ने कहा

Share
Advertisement

Gaganyaan Mission: भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन के अध्यक्ष एस सोमनाथ ने शनिवार को यहां कहा कि भारत के पहले मानव अंतरिक्ष उड़ान कार्यक्रम गगनयान के लिए चुने गए अंतरिक्ष यात्री 2025 मिशन के लिए उड़ान का इंतजार कर रहे हैं। गगनयान कार्यक्रम का लक्ष्य 2025 में तीन दिवसीय मिशन के लिए चार अंतरिक्ष यात्रियों को अंतरिक्ष में भेजना और उन्हें सुरक्षित रूप से पृथ्वी पर वापस लाना है। इसरो प्रमुख सोमनाथ ने कहा कि इसरो, जिसके चंद्रयान-3 ने अगस्त में चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव के पास ऐतिहासिक लैंडिंग की थी, इसे संभव बनाने के लिए दिन-रात काम किया था।

Advertisement

Gaganyaan Mission: दीक्षांत समारोह में बोले चीफ

सोमनाथ ने पंडित दीनदयाल ऊर्जा विश्वविद्यालय (पीडीईयू) के 11वें दीक्षांत समारोह में स्नातक छात्रों को संबोधित करते हुए कहा, “पहले मिशन के लिए हमने उनमें से चार को चुना है, और हमारा प्रयास है कि उन्हें कम से कम 2025 तक अंतरिक्ष में भेजा जाए और सुरक्षित वापस लाया जाए। उन्हें सुरक्षित वापस लाना इस मिशन का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा है”  और “इसे संभव बनाने के लिए आने वाले दिनों में बहुत सारी तकनीक विकसित करने की आवश्यकता है।

Gaganyaan Mission: महत्वपूर्ण मिशनों में से है एक

इसरो चीफ ने आगे कहा, “आने वाले दिनों में हम मनुष्य के बिना कई मिशन देखेंगे, और फिर अंततः एक भारतीय को अंतरिक्ष में लॉन्च करेंगे। अंतरिक्ष यात्री पहले से ही तैयार हैं. वे उड़ान होने का इंतजार कर रहे हैं. यह उन महत्वपूर्ण मिशनों में से एक है जिस पर हम विचार कर रहे हैं” उन्होंने कहा, इसरो एक अंतरिक्ष स्टेशन बनाने पर भी विचार कर रहा है, जो वैज्ञानिक और तकनीकी प्रगति और उद्योगों के लिए विभिन्न क्षेत्रों में काम करने के लिए महत्वपूर्ण है।

Gaganyaan Mission: चंद्रयान-3 की सफलता से प्रेरणा

उन्होंने आगे कहा, “चंद्रयान-3 की लैंडिंग की सफलता ने हम सब को बड़े सपने देखने में सक्षम बनाती है। हमारा कोई भी सपना छोटा नहीं हो सकता. हमारी हर बढ़ती सफलता के साथ, हमारे सपने और भी बड़े होते जाते हैं, और इसे हासिल करना ही होता है। और यह केवल युवा लोग ही कर सकते हैं जो इस क्षेत्र में आ रहे हैं। बता दें कि इसी साल अगस्त में भारत अमेरिका, पूर्व सोवियत संघ और चीन के बाद चंद्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग हासिल करने वाले देशों के एक विशिष्ट क्लब में शामिल हो गया।

ये भी पढ़ें- Election 2023: 4 राज्यों में विधानसभा चुनाव के वोटों की गिनती कल

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *