Advertisement

दिल्ली हाई कोर्ट से मैकेनिकल इंजीनियर ने मांगी माफी, Judge के खिलाफ की थी टिप्पणी

Share
Advertisement

Delhi News: दिल्ली हाई कोर्ट ने हाल ही में एक मैकेनिकल इंजीनियर के खिलाफ अदालती अवमानना ​​की आपराधिक कार्यवाही बंद कर दी, जिसने एक न्यायिक अधिकारी के खिलाफ अपमानजनक भाषा का इस्तेमाल किया था और कहा था कि पूरी दिल्ली न्यायपालिका भ्रष्ट थी। न्यायमूर्ति सुरेश कुमार कैत और न्यायमूर्ति शलिंदर कौर की खंडपीठ ने कहा कि इंजीनियर ब्रिजेश शुक्ला द्वारा न्यायिक अधिकारी और न्यायपालिका के खिलाफ लगाए गए आरोप हताशा और अवसाद के चलते किया गया है। ब्रिजेश शुक्ला के खिलाफ अवमानना ​​की कार्यवाही 2019 में शुरू की गई थी जब उन्होंने न्यायिक अधिकारियों के लिए सतर्कता समिति को ईमेल के माध्यम से एक शिकायत भेजी थी, जिसमें एक न्यायिक अधिकारी द्वारा शक्ति के दुरुपयोग का आरोप लगाया गया था। उन्होंने शिकायत में जज के खिलाफ अभद्र भाषा का भी इस्तेमाल किया.

Advertisement

Delhi News: धोखाधड़ी के उठाए थे मुद्दे

न्यायालय ने कहा कि रिकॉर्ड के अनुसार, शुक्ला ने बैंकों द्वारा धोखाधड़ी किए जाने के कई मुद्दे उठाए थे और यह भी दावा किया था कि न्यायिक अधिकारी उनके खिलाफ “फर्जी मामलों” का फैसला कर रहे थे और उनका विदेशी भुगतान हड़पने का इरादा रखते थे। यह भी पाया गया कि शुक्ला ने अवमानना ​​कार्यवाही के जवाब में विशेष रूप से कहा था कि दिल्ली न्यायपालिका भ्रष्ट थी और मनी लॉन्ड्रिंग में शामिल थी। कोर्ट को जवाब में, शुक्ला ने कहा कि वह इंजीनियरिंग (मैकेनिकल) में स्नातक हैं और काम के लिए फिजी गए थे, लेकिन उन्हें उचित भुगतान नहीं मिला। अदालत को बताया गया कि वह फिजी सरकार से भुगतान के संबंध में एंजेलिक इंटरनेशनल लिमिटेड के साथ कानूनी विवाद में भी शामिल था।

Delhi News: हार के कारण झेला डिप्रेशन

ब्रिजेश शुक्ला ने यह भी कहा कि 2012 से 2022 तक हार के कारण उन्हें डिप्रेशन था। उनके बचाव के लिए नियुक्त न्याय मित्र ने उनसे बातचीत की, जिसके बाद उन्होंने बिना शर्त माफ़ी मांगी और बताया कि उन्होंने कोई वकील नहीं किया था और उन्हें इस बात की जानकारी नहीं थी कि इस तरह के आरोपों से अदालत की अवमानना ​​होगी।

ये भी पढ़ें- Spinach Benefits in Winters : सर्दियों में सुपरफूड का काम करता है पालक, जानें इसके फायदे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *