घोटाले सामने आने के डर से बीजेपी एमसीडी ने 4 सालों से नहीं छापी ऑडिट रिपोर्ट: दुर्गेश पाठक

दुर्गेश पाठक
Share

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी का आरोप है कि भाजपा शासित एमसीडी हज़ारों करोड़ों का घोटाला छुपाने के लिए पिछले चार वर्षों से ऑडिट रिपोर्ट नहीं छाप रही है। ‘आप’ प्रभारी दुर्गेश पाठक ने कहा कि वर्ष 2017-2018 की ऑडिट रिपोर्ट में खुद एमसीडी के ऑडिटर ने लगभग 6000 करोड़ के भुगतान पर आपत्ति जताई थी। जिसके बाद से एमसीडी ने ऑडिट रिपोर्ट छापनी बंद कर दी है। आम आदमी पार्टी ने कई पत्र भेजे और व्यक्तिगत मुलाकात भी की लेकिन बीजेपी एमसीडी की और से कोई जवाब नहीं आया। दुर्गेश पाठक ने कहा कि भाजपा ऐसा कौन सा भ्रष्टाचार छुपाने की कोशिश कर रही है जो पिछले 4 सालों से ऑडिट रिपोर्ट नहीं छाप रही है।

यदि 4 सालों का हिसाब लगाया जाए तो लगभग 30-35 हज़ार का बनता है घोटाला

AAP के वरिष्ठ नेता और एमसीडी प्रभारी दुर्गेश पाठक ने प्रेसवार्ता को संबोधित करते हुए कहा कि हम लोग लगातार एमसीडी में हो रहे भ्रष्टाचार से आपलोगों को लगातार सूचित करते रहते हैं। जब भी एमसीडी का बजट आता है और उसकी जो प्रक्रिया होती है, उसी बजट के साथ एक ऑडिट रिपोर्ट भी आती है। लेकिन पिछले कई सालों से भाजपा की एमसीडी अपनी ऑडिट रिपोर्ट नहीं जारी कर रही है। हमारे एलओपी कई पत्र लिख चुके हैं लेकिन अभी तक कोई जवाबदेही नहीं है। हमेशा यह कहा जाता था कि कोविड के कारण ऑडिट रिपोर्ट नहीं बन पा रही है। जब बजट बन सकता है, दिल्ली सरकार अपना ऑडिट निकाल सकती है, एमसीडी अपनी ऑडिट रिपोर्ट क्यों नहीं निकाल सकती है।

ऑडिट रिपोर्ट नहीं छापकर BJP MCD कौन सा भ्रष्टाचार छुपाने की कर रही है कोशिश

उन्होनें कहा इनकी पिछली ऑडिट रिपोर्ट 2017-2018 की थी। इसमें लगभग 38 पन्ने थे। मैं पहले नॉर्थ का बनाता हूं। नॉर्थ एमसीडी में लगभग 3153 करोड़ रुपए के भुगतान की प्रक्रिया पर प्रश्न उठे थे। ईस्ट एमसीडी की ऑडिट रिपोर्ट में 1252 करोड़ रुपए के भुगतान पर प्रश्न उठा था। और साउथ एमसीडी की ऑडिट रिपोर्ट में लगभग 1696 करोड़ के भुगतान में घपलेबाजी पर प्रश्न उठे थे। इसका कुल लगभग 6000 करोड़ रुपए बनता है। खुद एमसीडी के ऑडिटर ने कहा कि यह मेरी रिपोर्ट नहीं बल्कि एमसीडी की रिपोर्ट है। इसके बाद एमसीडी ने ऑडिट रिपोर्ट छापना बंद कर दिया। इसका मतलब इसमें बहुत बड़े घोटाले का अंदेशा है। जिसके कारण भाजपा बहुत डरी हुई है इसलिए वह ऑडिट रिपोर्ट नहीं छाप रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *