Advertisement

बाजारों को बंद करने के मुद्दे पर सीटीआई ने बुलाई व्यापारियों की महापंचायत, 200 व्यापारी संगठनों को किया आमंत्रित

Share
Advertisement

नई दिल्ली: मार्केट में भीड़ को नियंत्रित करने की जिम्मेदारी व्यापारियों की नहीं दिल्ली के बाजारों में बढ़ रही भीड़ और कोविड गाइडलाइन्स का गंभीरता से पालन नहीं होने पर प्रशासन सख्ती बरत रहा है ।

Advertisement

पहले लक्ष्मी नगर मार्केट , फिर गांधी नगर मार्केट की 12 दुकानें,  नांगलोई में 2 बाजार, सदर बाजार रूई मंडी, लाजपत नगर सेन्ट्रल मार्केट को पिछले 5 दिनों के अंदर बंद कर दिया गया है जिसको लेकर दिल्ली के व्यापारियों में काफी पैनिक फैल गया है। इसी मुद्दे पर अब व्यापारियों के संगठन चैम्बर ऑफ ट्रेड एंड इंडस्ट्री ने आज दोपहर में दिल्ली के व्यापारियों की एक महापंचायत बुलाई है जिसमें दिल्ली के 200 बड़े  व्यापारी संगठनों को आमंत्रित किया गया है। सीटीआई के चेयरमैन बृजेश गोयल और अध्यक्ष सुभाष खंडेलवाल ने बताया कि पिछले कुछ दिनों से जिस तरह से दिल्ली के बाजारों को बंद किया जा रहा है उसको लेकर व्यापारियों में काफी पैनिक फैल गया है,  दिल्ली के अनेकों संगठनों के फोन आ रहे हैं।

पुलिस प्रशासन और एमसीडी की जिम्मेदारी तय की जाए

व्यापारियों का कहना है कि DDMA द्वारा बाजारों में भीड़ को नियंत्रित करने की जिम्मेदारी व्यापारियों और मार्केट एसोसिएशन्स पर डाली जा रही है जबकि इसके लिए पुलिस प्रशासन और एमसीडी जवाबदेह होने चाहिए क्योंकि व्यापारी अपनी दुकान, गोदाम, ऑफिस के अंदर बाहर तक तो कोरोना नियमों का पालन करा सकते हैं लेकिन मेन रोड या सार्वजनिक सडक पर भीड़ को नियंत्रित करने की पावर व्यापारियों के पास नहीं है ।

सदर बाजार,  चांदनी चौक, कमला नगर, कनोट प्लेस, लाजपत नगर, नेहरू प्लेस , सरोजनी नगर जैसे बड़े मार्केट एसोसिएशन्स का कहना है कि अवैध रेहड़ी पटरी और हॉकर्स के कारण भी बाजारों में भीड़ बढ रही है जिनको नियंत्रित करने की जिम्मेदारी और पावर मार्केट एसोसिएशन्स के हाथ में नहीं है।

सीटीआई के महासचिव विष्णु भार्गव और रमेश आहूजा ने बताया कि आज की व्यापारियों की महापंचायत में इसी मुद्दे पर चर्चा होगी  कि बाजारों में कोरोना प्रोटोकॉल का पालन किस तरह किया जाए , इसमें  मार्केट एसोसिएशन्स क्या भूमिका निभा सकती हैं और साथ ही तमाम व्यापारियों के सुझाव लिए जायेंगे। आज की महापंचायत में कश्मीरी गेट, चांदनी चौक, सदर बाजार, गांधी नगर, चावड़ी बाजार, लक्ष्मी नगर,  कमला नगर, कनोट प्लेस, लाजपत नगर, करोल बाग,  सरोजनी नगर, नेहरू प्लेस जैसे तमाम मार्केट एसोसिएशन्स शामिल होंगे। रिपोर्ट- कुलदीप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अन्य खबरें