Advertisement

अबुल कलाम आजाद ने धर्मनिरपेक्ष मूल्यों को प्रतिष्ठित किया- जगदानंद

RJD to Abul Kalam

RJD to Abul Kalam

Share
Advertisement

RJD to Abul Kalam: राष्ट्रीय जनता दल के राज्य कार्यालय में अबुल कलाम आजाद की 136वीं जयंती मनाई गई। इस अवसर पर स्वतंत्रता सेनानी, शिक्षाविद एवं भारत के प्रथम शिक्षामंत्री भारत रत्न मौलाना अबुल कलाम आजाद को पार्टी नेताओं और कार्यकर्ताओं ने नमन किया। अध्यक्षता प्रदेश अध्यक्ष जगदानन्द सिंह ने की।

Advertisement

RJD to Abul Kalam: भारत विभाजन के थे प्रबल विरोधी

इस अवसर पर प्रदेश अध्यक्ष जगदानन्द सिंह ने कहा, मौलाना अबुल कलाम आजाद कवि, लेखक, पत्रकार, महान स्वतंत्रता सेनानी, महान देश भक्त तथा प्रसिद्ध शिक्षाविद थे। देश के प्रथम शिक्षामंत्री के रूप में उन्होंने शिक्षा में धर्मनिरपेक्ष मूल्यों को प्रतिष्ठित किया। देश की एकता एवं अखंडता की हिमायत की। वे भारत विभाजन के प्रबल विरोधी थे। माउँटबेटन के साथ कई बैठक में भारत के विभाजन नहीं करने की बातें कही।

RJD to Abul Kalam: मौलाना साहब के आदर्शों पर चले लालू और राबड़ी

उन्होंने कहा, मौलाना साहब के विचारों के अनुरूप लालू प्रसाद तथा राबड़ी देवी ने बिहार के गरीब-गुरबों के बीच शिक्षा को पहुंचाया। शिक्षा को आम लोगों के बीच ले जाने के लिए तथा गरीबों में शिक्षा के प्रति जागरूकता पैदा करने के लिए निरंतर अभियान चलाया गया। इसी का परिणाम है कि गाँव के गरीब लोगों में भी राजनीतिक तथा सामाजिक चेतना विकसित हुई है। वे अपने अधिकारों को पहचानने लगे और हर स्तर पर समाज में शिक्षा के प्रति लोगों में अलख जगी।

RJD to Abul Kalam: नेताओं और कार्यकर्ताओं ने किया माल्यार्पण,नमन

इस अवसर पर मौलाना अबुल कलाम आजाद के चित्र पर माल्यार्पण करने वालों में राष्ट्रीय उपाध्यक्ष उदय नारायण चैधरी, राष्ट्रीय महासचिव श्याम रजक, वृषिण पटेल, बिनू यादव, प्रदेश मुख्य प्रवक्ता शक्ति सिंह यादव, प्रदेश प्रवक्ता एजाज अहमद, पूर्व विधायक डॉ. अनवर आलम, प्रियंका भारती, प्रदेश महासचिव भाई अरूण कुमार, संजय यादव, ई अशोक यादव, फैयाज आलम कमाल, मदन शर्मा, मुकुंद सिंह, खुर्शीद आलम सिद्दिकी, डॉ. प्रेम कुमार गुप्ता, प्रमोद कुमार राम, प्रदीप मेहता, संटू कुमार यादव, अभिषेक सिंह, गुलाम रब्बानी, राजेश यादव, अशेाक कुमार गुप्ता, महेन्द्र प्रसाद विद्यार्थी, रीतू जायसवाल, गोपाल कृष्ण कुमार उर्फ चंदन यादव, सरदार रंजीत सिंह, विपिन कुमार सिंह, उपेन्द्र चन्द्रवंशी, पीके मिश्रा, शिवेंद्र कुमार तांती, अफरोज आलम, मुश्ताक आलम, अब्दुल जब्बार, राजदेव यादव सहित दर्जनों कार्यकर्ता शामिल रहे।

रिपोर्टः सुजीत श्रीवास्तव, ब्यूरोचीफ, बिहार

ये भी पढ़ें: लक्ष्मी को घर बुलाना है तो नेताओं को झाड़ू से भगाइए-प्रशांत किशोर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *