Advertisement

Delhi-NCR: 150 सीसीटीवी खंगाला, फिर बुजुर्ग को टक्कर मारने वाले आरोपी को किया गिरफ्तार, जाने पूरा मामला…

Share
Advertisement

Delhi-NCR: 30 नवंबर की शाम दिल्ली के ग्रेटर कैलाश इलाके में एक होंडा सिट कार चालक ने 72 वर्षीय बुजुर्ग को टक्कर मारकर 60 से 80 फीट तक घसीटा, जिससे बुजुर्ग की हालत गंभीर हो गई। बुजुर्ग को घायल होकर अस्पताल लाया गया, लेकिन डॉक्टरों ने उन्हें मृत बताया। लगभग 150 सीसीटीवी कैमरों की जांच के बाद पुलिस ने पिछले छह दिनों से फरार चल रहे आरोपी चालक को गिरफ्तार कर लिया।

Advertisement

यहां पढ़िए पूरी ख़बर

डीसीपी चंदन चौधरी ने बताया कि 30 नवंबर की शाम करीब 7:00 बजे ग्रेटर कैलाश इलाके में एक दुर्घटना के बारे में पीसीआर कॉल मिला था। एक वृद्ध व्यक्ति बेहोश है। पुराने थाने में दुर्घटना हुई। पीडित को तुरंत अस्पताल भेजा गया। जहां डॉक्टरों ने उन्हें मर चुके बताया क्राइम टीम भी मौके पर आई। लेकिन कार चालक मौके से निकल गया। तब पुलिस ने आईपीसी की धारा 279/304 ए के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू की। कार चालक तरूण अरोड़ा को अंततः 6 दिसंबर को गिरफ्तार कर लिया गया। कार भी जप्त की गई। पूछताछ में आरोपी ड्राइवर ने कहा कि वह ग्रेटर कैलाश से कालका जा रहे थे। बुजुर्ग व्यक्ति कार के सामने आ गया। वहीं, आरोपी चालक नशे में गाड़ी चला रहा होने का कोई साक्ष्य नहीं है। आरोपी को सिर्फ थाने से जमानत मिली है।

आगे पढ़िए

मरने वाले के पुत्र अरविन्द टंडन ने बताया कि उनके पाता अजित लाल टंडन ग्रेटर कैलाश में अकेले रहते थे। उनकी पत्नी मर चुकी है।  वह रिटायर हो गया था और अकेले रहते थे। उनके इकलौते बेटे, अरविंद टंडन, पिछले 28 वर्षों से साउदी अरब में रहकर काम करते हैं। उनका कहना था कि वह हादसे के समय विदेश में थे। उसने घटना से पंद्रह मिनट पहले अपने पिता से फोन किया था। सूचना मिलने पर वह अगले दिन फ्लाइट पकड़कर दिल्ली पहुंचे।

क्या हुआ घटनास्थल पर

यहां पहुंचने पर पता चला कि हादसा जहां हुआ था। 60 से 80 फीट दूर उनके पिता का एक जुता और चश्मा मिला। दूसरा जुता कुछ अलग था। उनके सिर, हाथ, पैर और पीठ पर चोट के निशान थे। टक्कर के बाद चालक ने काफी दूर तक घसीटा है, उन्होंने कहा। उनकी मौत इसी से हुई। साथ ही, आरोपी को देर से गिरफ्तार क-रने पर यह भी आरोप लगाया गया कि वह शायद शराब पी रहा था जब हादसा हुआ। छह दिन बाद भी शराब पीने की पुष्टि नहीं हो सकती। उन्होंने कानून व्यवस्था पर भी सवाल उठाया है कि आरोपी को थाने से जमानत मिली क्यों?

ये भी पढ़ें- Allahabad High Court: ज्ञानवापी परिसर के मालिकाना हक का विवाद, कोर्ट प्रोसिडिंग की मीडिया रिपोर्टिंग पर लगी रोक…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *