जानिए उत्तराखंड के युवा मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की जीवनी और राजनीतिक सफर के बारे में

पुष्कर सिंह धामी जीवनी

पुष्कर सिंह धामी जीवनी

पुष्कर सिंह धामी (Pushkar Singh Dhami) आज किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं। धामी उत्तराखंड के सबसे युवा मुख्यमंत्री हैं। उन्होंने 11वें मुख्यमंत्री के तौर पर राज्य की सत्ता संभाली है। उन्होंने बहुत ही कम उम्र में इस महत्वपूर्ण पद को प्राप्त किया है। पुष्कर सिंह धामी की जीवनी और राजनीतिक सफर (Pushkar Singh Dhami Biography and Political Career) पर नजर डालते हैं तो पाते हैं कि उन्होंने अपने राजनीतिक करियर में बहुत ही शानदार सफर तय किया है।

पुष्कर सिंह धामी उत्तराखंड के सबसे युवा मुख्यमंत्री हैं। उन्होंने मात्र 45 साल की उम्र में किसी राज्य का मुख्यमंत्री बनकर एक कीर्तिमान स्थापित किया है। पुष्कर सिंह धामी का रक्षामंत्री राजनाथ सिंह से करीबी और अच्छे संबंध रहे हैं।

पुष्कर सिंह धामी की जीवनी: एक नजर

पुष्कर सिंह धामी का प्रारंभिक जीवन उत्तराखंड में ही बीता। धामी का जन्म 16 सितंबर 1975 को हरखोला (कनालीछिना ब्लॉक), पिथौरागढ़ जिला, उत्तराखंड में हुआ। पुष्कर सिंह धामी के पिता का नाम शेर सिंह धामी (पूर्व सैनिक) है और माता का नाम बिशना देवी है। धामी के पिता शेर सिंह धामी सेना में सूबेदार के पद पर थे। पुष्कर सिंह की पत्नी का नाम गीता धामी है और उन्हें दो बच्चे भी हैं। धामी के बच्चों का नाम क्रमश: दिवाकर और प्रभाकर है।

पुष्कर सिंह धामी अपनी पत्नी गीता धामी के साथ

पुष्कर सिंह धामी की शिक्षा (Pushkar Singh Dhami Education):

पुष्कर सिंह धामी ने अपनी शुरुआती शिक्षा पिथौरागढ़ उत्तराखंड के स्कूल से की है। उसके बाद उन्होंने लखनऊ विश्वविद्यालय से स्नानकोत्तर से मानव संसाधन प्रबंधन और औद्योगिक विषय (MHRM & IR) में मास्टर डिग्री किया और स्नातक BA, वकालत (LLB), डीपीए (डिप्लोमा इन पब्लिक एडमिनिस्ट्रेशन) से किया है।

Pushkar Singh Dhami Biography and Political Career: पुष्कर सिंह धामी का राजनीतिक सफर

राजपूत समाज से ताल्लुक रखने वाले पुष्कर सिंह धामी उत्तराखंड में युवा राजनीति का चेहरा हैं। विधायक बनने से पहले धामी छात्र राजनीति में भी सक्रिय रहे हैं और कई राजनीतिक आंदोलनों में बढ़-चढ़कर हिस्सा ले चुके हैं। पुष्कर सिंह धामी का जन्म बहुत ही सामान्य परिवार में हुआ। उन्होंने 1990 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की छात्र शाखा अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से अपनी राजनीतिक पारी की शुरुआत की थी।

2008 में भारतीय जनता युवा मोर्चा में उन्होंने काम किया और उन्हें यहां पर राज्य अध्यक्ष के रूप में चुना गया। उसके बाद पुष्कर सिंह ऊधमसिंह जिले के खटीमा से विधायक चुने गए। इस विधानसभा क्षेत्र के लिए उन्होंने कई बेहतर कार्य किए।

पुष्कर सिंह के संबंध में रोचक जानकारियां

  • पुष्कर सिंह ने 11 जनवरी 2005 को 90 युवाओं के साथ विधानसभा का घेराव किया था, जिसे काफी चर्चा मिली थी। इस आयोजन को एक ऐतिहासिक रैली के रूप में देखा गया।
  • 2001 से 2002 तक पुष्कर सिंह धामी विशेष कार्यकारी अधिकारी के रूप में उत्तराखंड में अपना कार्यभार संभाल चुके हैं।
  • 2010 से 2012 तक शहरी विकास परिषद के उपाध्यक्ष के रूप में भी उन्होंने कार्य किया है।
  • 2012 में खटीमा विधानसभा उत्तराखंड से चुनाव लड़े और अपने विरोधी को भारी मतों से हराया था।
  • पुष्कर सिंह धामी का उद्देश्य उत्तराखंड को सभी कार्यों में नंबर 1 बनाना है और उत्तराखंड की जनता को सभी तरह की सुविधाएं उपलब्ध करवाना है।
  • पुष्कर सिंह धामी ने 3 जुलाई 2021 को उत्तराखंड के 11वें मुख्यमंत्री के रूप में राज्य की कमान संभाली थी। धामी उत्तराखंड के सबसे युवा मुख्यमंत्री हैं।
  • 23 मार्च 2022 को एक बार पुष्कर सिंह धामी उत्तराखंड के 12वें मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लिया। विधानसभा चुनाव में हालांकि वो हार गए, लेकिन बीजेपी हाई कमान ने धामी पर अपना विश्वास दिखाया और पुष्कर सिंह धामी ने राज्य के नए मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली।
Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published.