Rajasthan: अलवर में 300 साल पुराने मंदिर पर चला बुलडोजर, BJP ने पूछा-यही है कांग्रेस का सेक्युलरिज्म

मंदिर

राजस्थान सरकार ने अलवर में करीब 300 साल पुराने मंदिर को ढहा दिया है। अलवर जिले के सराय मोहल्ला में स्थित 300 पुराने शिव मंदिर पर प्रशासन ने बुलडोजर चला दिया गया है। बुलडोजर चलाए जाने के बाद से हिन्दूवादी संगठनों में रोष व्याप्त है। वहीं मंदिर तोड़े जाने को लेकर भाजपा ने कांग्रेस पर हमला बोल दिया है।

जिसके बाद कांग्रेस विधायक सहित तीन के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गई है। यहां कुल तीन मंदिर तोड़े गए, लोगों की भीड़ ने इसका विरोध भी किया लेकिन नगरपालिका के दस्ते ने मंदिर को हटा दिया। नगर पालिका का कहना है कि मास्टर प्लान में मंदिर नहीं था।

BJP नेता ने कांग्रेस पर हमला

वहीं, अलवर के राजगढ़ में तीन मंदिरों को गिराने का मामला सामने आने के बाद भाजपा के लोग कांग्रेस पार्टी पर हमलावर हो गई है। अलवर के ही सराय मोहल्ला स्थित इस पुराने मंदिर को गिराए जाने से भड़के भाजपा नेता अमित मालवीय ने कांग्रेस से पूछा कि क्या यही सेक्यूलरिज्म है। भाजपा के अमित मालवीय ने अपने ट्वीटर पर लिखा है कि राजस्थान के अलवर में विकास के नाम पर तोड़ा गया 300 साल पुराना शिव मंदिर करौली और जहांगीरपुरी पर आंसू बहाना और हिन्दुओं की आस्था को ठेस पहुंचाना, यही कांग्रेस का सेक्यूलरिज्म है।

कांग्रेस विधायक सहित तीन के खिलाफ शिकायत दर्ज

मंदिर के पुजारी और ब्रजभूमि विकास परिषद ने राजगढ़ थाने में कांग्रेस विधायक जौहरी लाल मीणा और एसडीएम समेत तीन लोगों के खिलाफ ‘प्रशासन के सहयोग से मंदिर गिराने’ का मामला दर्ज कराया है।

जिसके बाद राजगढ़ विधायक जौहरी लाल मीणा ने सफाई दी है। राजगढ़ में भाजपा का बोर्ड है। विधायक ने कहा कि 35 पार्षदों के बोर्ड में 34 विधायक भाजपा के हैं। एक कांग्रेस का है। ऐसे में अतिक्रमण हटाना, सड़क चौड़ी करना और मंदिर हटाना सब निर्णय भाजपा की बोर्ड लेती है। एक पार्षद 34 पार्षदों के फैसले को नहीं बदल सकता है। विधायक ने कहा कि मैं और मेरा परिवार भगवान में आस्था रखते हैं। हमने ये नहीं किया है।

यह भी पढ़ें: ब्रिटिश PM जॉनसन और पीएम मोदी की मुलाकात, जानें रुस-यूक्रेन यूद्ध को लेकर क्या हुई चर्चा?

Share This News

Leave a Reply

Your email address will not be published.