Advertisement

संसद के शीतकालीन सत्र से पहले सरकार ने बुलाई सर्वदलीय बैठक

Share
Advertisement

New Delhi : शीतकालीन सत्र शुरू होने से पहले केंद्र ने शनिवार को लोकसभा और राज्यसभा में राजनीतिक पार्टियों के नेताओं की बैठक बुलाई है। संसद का शीतकालीन सत्र चार दिसंबर से शुरू हो रहा है, जो कि 22 दिसंबर तक चलेगा। जिसमें 15 बैठकें आयोजित की जाएंगी।

Advertisement

प्रह्लाद जोशी की अध्यक्षता में होगी बैठक

सत्र के दौरान औपनिवेशिक युग के आपराधिक कानूनों को बदलने के लिए 3 विधेयकों सहित प्रमुख मसौदा कानूनों पर विचार-विमर्श करने की उम्मीद है। यह बैठक संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी की अध्यक्षता में होगी, जिसमें रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल सहित वरिष्ठ नेताओं के शामिल होने की उम्मीद है।

कितने विधेयक हैं लंबित?

सनद रहे कि वर्तमान समय में संसद में 37 विधेयक लंबित हैं। जिनमें से 12 विचार और पारित करने के लिए सूचीबद्ध किए गए हैं। वहीं, 7 विधेयकों को संसद में पेश करने और उसे पारित करने के लिए सूचीबद्ध किया गया है।

कैश-फॉर-क्वेरी पर भी रिपोर्ट होगी पेश

सांसद महुआ मोइत्रा के खिलाफ कैश-फॉर-क्वेरी के आरोपों पर आचार समिति की रिपोर्ट भी इसी सत्र के दौरान लोकसभा में पेश की जाएगी। इसके अलावा, भारतीय दंड संहिता, आपराधिक प्रक्रिया संहिता और साक्ष्य अधिनियम को बदलने वाले 3 प्रमुख विधेयकों पर सत्र के दौरान विचार किए जाने की संभावना है। इससे पहले गृह संबंधी स्थायी समिति ने हाल ही में 3 रिपोर्टों को स्वीकार किया है।

संसद में लंबित एक अन्य प्रमुख विधेयक मुख्य चुनाव आयुक्त और चुनाव आयुक्तों की नियुक्ति से संबंधित है। इस प्रस्ताव को केंद्र ने मानसून सत्र में पेश किया था, जिसका विपक्ष और पूर्व मुख्य चुनाव आयुक्तों के कड़ा विरोध किया था। विरोध को देखते हुए सरकार ने इसे संसद के विशेष सत्र में पारित करने पर जोर नहीं दिया।

यह भी पढ़ें – Rajasthan Elections 2023 5 राज्यों में किसी में भी नहीं जीतेगी भाजपा, एग्जिट पोल से पहले CM गहलोत का बयान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *